Happy New Year in Advance

देखते देखते साल 2017 कैसे बीता कुछ पता नहीं चला ! आप में से ये 2017 किसी के लिए खुशियाँ ले करके आया था तो किसी के लिए गम तो कुछ लोगो के लिए मिला जुला असर या फिर normal और साल जैसे ही बीता ! हमारे यहाँ जितने त्यौहार मनाये जाते हैं सबके पीछे एक वजह जरूर होती है और ये 2018 भी अपने साथ एक वजह जरूर लाएगा लेकिन शर्त ये हैं वो वजह आपको ढूढ़ना है !
बातो का सिलसिला आगे बढ़ाते हुए उन सभी भइया बहन जो अभी किसी न किसी दुःख गम में हैं और सोच करके बैठे हैं नया साल भी normal जैसे ही जाएगा तो आपको मेरा एक सन्देश है ,” दिल खोल करके इस नए साल का स्वागत करिये ” ! नए साल का मतलब समय है एक RESOLUTION लेने का , एक Goal को target पर लेने का और पुराने साल का मतलब , एक खराब आदत छोड़ने का ! तो कुछ खराब आदतों को पुराने साल के साथ bye bye बोलिये और नए साल के साथ अपने Resolution का welcome करिये !
Resolution का मतलब एक बुरी आदत को छोड़ना ही नहीं होता है इस खराब आदत को एक अच्छी आदत में बदलने को Resolution कहते हैं ! Resolution आप सबके साथ मैं भी लूँगा , ये आप में से हर एक को लेना चाहिए ! क्यों लेना चाहिए वजह मैं देता हूँ ना !
(1) हर परीक्षा में लगतार फेल होते आ रहे हैं इस कारण दुखी रहते हैं तो इस दुःख को बोलिये जो हुआ सो हुआ आपसे हमने कुछ सीखा है उस सीख को नए साल से अपने साथ रखेंगे बाकी दुःख महराज Failure जी आपको अलविदा bye bye, सफलता की नयी उम्मीदों के साथ नए साल का स्वागत है !
(2) नशा तो नशा होता है फिर चाहे वो आप में से किसी को सिगरेट , गुटखा तम्बाकू alcohol नशे की लत हो या फिर ज्यादा देर तक सोते रहने का नशा , मोबाइल पर घण्टो बात करते रहने का नशा , Social Sites पर घण्टो chat करते रहने का नशा , गन्दी साइट्स पर जा करके लगतार फालतू के video देखते रहने का नशा , हमेशा घूमते फिरते रहने का नशा , किसी से बात बात पर लड़ते झगड़ते रहने का नशा , etc etc . तो मौका है पुराने साल के साथ इसे इस नशे को हमेशा के लिए अलविदा कहने का ! और नए साल के साथ एक अच्छे नशे की लत को पकड़ना ( यहाँ नया नशा मतलब जल्दी सो करके उठ जाना , सुबह मॉर्निंग वाक करना , कसरत , gym , workout करना , social sites का use केवल पढ़ाई और अच्छी knowledge के लिए करना , coffee, चाय , सिगेरट के जगह अच्छी सब्जयों वाला खाना , पानी ज्यादा पीना और भी कई चीज़े ) !
(3) आप सबके ऐसी उम्र से गुजर रहे हैं जहां इस उम्र में भावनाये एक दुसरे से बड़ी जल्दी जुड़ती है और टूटने पर दुःख होना लाज़मी है ! आप में से कोई दोस्त अपने साथी से किसी कारण अलग हो गए हों और girlfriend – boyfriend ही क्यों परिवार में ही किसी मेंबर या किसी दोस्त से अलग हुए तो अपने से बोलिये , Thank you आप हमारे लाइफ में आये , कुछ सिखाया ही आपने , बाकी अलग हो करके अपने मुझे आगे बढ़ने की एक “वजह” दी ! बस इसी वजह के लिए नए साल का स्वागत और दुःख , गलतियों को पुराने साल के साथ साथ अलविदा ! क्यों ? क्योंकि मैं जिन्दा हूँ , पीछे मुड़ करके नहीं देखना अब ! मुझे तो बस आगे बढ़ते ही चले जाना है !
(4) हो सकता है आप किसी जगह अपने को adjust ना कर पाने के कारण दुखी हो , नया जगह मतलब घर से दूर नए जगह रहना , नए ऑफिस में नए स्टाफ के साथ , और नए ही क्यों ? घर में ही अपनों के साथ किसी ना किसी कारण से दुखी हो तो तो एक हिम्मत के साथ इस दुःख को अलविदा बोलिये और एक जोश के साथ इस उम्मीद में की मेहनत से इस साल इतना पढ़ाई करेंगे की मनचाहा अपना सिटी में पोस्टिंग लेंगे , मनचाहा अपना घर लेंगे इसी मनचाही उम्मीद के साथ नया साल आपका स्वागत है !
(5) अभी तक अपने लिए जिए जा रहे थे अपने लिए पढ़ाई तैयारी कर रहे थे शायद इसलिए सफलता ना मिली हो ! पुराने साल के साथ ये ” मैं ” “अपने लिए ” ” अपना ” को अलविदा ! अब मैं अपने पापा – मम्मी के लिए जियूँगा / जियूँगी ! उन्होंने जो हमे खुशियाँ दी उसका दुगना ख़ुशी मैं उन्हें दूंगा / दूँगी ! मैं अब परिवार के ख़ुशी के लिए मेहनत और पढ़ाई करूंगा / करूंगी ! उन्होंने हमे train में , बाइक पर घुमाया दुनिया दिखाई ,मैं इतना मेहनत करूंगा / करूंगी की जिंदगी में एक उन्हें कम से कम एक बार Airplane में पूरी दुनिया घुमाऊंगा / घुमाऊँगी ! उनके लिए एक अच्छा फ्लैट / अच्छी कार और वो सभी चीज़े जिनके लिए मैंने सपना देखा वो सभी सपनो को पूरा करने के लिए नए साल का स्वागत !
वजह और भी हैं आपके लाइफ में , उसे ढूढ़ना आपका काम है और उसे ढूढ़ करके अलविदा कह करके एक नयी वजह के साथ नयी शुरुआत करने का reason ये नया साल है ! इसमें कोई संदेह नहीं है आप नहीं कर सकते , और ऐसा है तो मुझे बस इतना बता दो आप नहीं कर सकते फिर कौन करने आएगा ?
कुछ समय पहले ही आपके अंदर 9 से 5 तक कॉलेज में बैठे रहने का फिर उसके बाद घर आ करके पढ़ते रहने का दम था ! भूल कैसे जाते हो कि केवल 2 रात पढ़ाई करके पूरी किताब ख़त्म की है आपने ! फिर ऐसी कौन सी book है कौन सा chapter है जो आपसे ना ख़त्म होने वाला हो भाई ?
सबसे बड़ी बात जिन्दा हो यार आप और बहुत अच्छे कंडीशन में हो ! कम से कम आप उस मजदूर के जैसे तो नहीं हो ना जो बेचारा सुबह 8 बजे काम की तलाश में जाता है फिर शाम को 8 बजे ही परिवार से मिलता है या फिर वो रिक्शा चलाने वाला या फिर वो चाट – आइस क्रीम बेचने वाले ठेले वाले भइया या फिर वो सब्जी वाला बिचारा जो ठंड में तब तक बैठा रहता है जब तक उसकी पूरी सब्जी न बिक जाए ! चलो इनको भी छोड़ो आपके साथ जो ऑफिस में 9 से 7 जॉब करते हैं उसके बाद फिर घर आ करके तैयारी करते उनसे तो अच्छे ही हो ना ? चलो इनको छोड़ो आपके खुद पापा सुबह जाते हैं कि नहीं काम पर फिर शाम को 8-9 बजे ही आपका मुँह देख पाते हैं ! क्या आप उनसे बूढ़े हो गए हो अब ? नहीं ना फिर क्यों लापरवाही कर रहे और कर रहे थे तो कर रहे थे ये सारी लापरवाही को इसी 2017 के साथ अलविदा बोलिये और नए साल के साथ लग जाइये !
बारूद आप सबके अंदर भरा हुआ है जरूरत होती है तो बस एक चिंगारी की ! और मेरा वही काम है ! वजह तलाशा करिये आप सब ! कभी भी ऐसे जगह फँस जाएँ जहाँ से से कुछ भी समझ में न आये की क्या करना है तो आपको उस जगह पर बिलकुल भी नहीं रुकना है एक जगह रुकेंगे तो वही आप मर जायेंगे या फिर कोई मार देगा ! आगे बढ़ते रहेंगे तो कम से कम ये आश रहेगी कि कुछ मिल जाए ! वैसे भी जब तक आगे नहीं बढ़ेंगे तो अगला पड़ाव कैसे दिखेगा मेरे दोस्त ?
बात शायद लम्बी हो गयी लेकिन क्या करूँ आप सबसे जब बात करने लगता फिर रुकने का मन नहीं मानता ! खैर ये आने वाला साल बिलकुल ख़ुशी के साथ जम करके मनाइये क्योंकि आपकी नयी उम्मीदों की नयी शुरुआत यहाँ से हैं ! लाइफ में बहुत सारे कम है आपको , अभी तो पूरी दुनिया घूमना है , परिवार को घूमना है , अच्छा घर गाडी नौकर-चाकर रखना है ! उन सभी को जवाब देना है जो हमारे खराब टाइम हमारा मजाक बना गए , उन सभी को खुशियां बाटनी जिन्होंने हमारा हमेशा सपोर्ट किया ! बाकी “कौन कहता है कि आसमान में सुराख नहीं हो सकता, एक पत्थर तो तबियत से उछालो यारों “!
अभी तो बस नापी है मुट्ठी भर जमीन आपने , अभी तो पूरा आसमान नापने के लिए असली उड़ान बाकी है।
लक्ष्य बनाइये ,प्रतिज्ञा करिये , संकल्प लीजिये , मुस्कुराते रहिये और नए साल का स्वागत करने के लिए तैयार रहिये

Add a Comment

Your email address will not be published.

Close